मैं थैलेसीमिया माइनर हूं। मुझे अपनी शादी से पहले क्या पता होना चाहिए?

Translate in other available languages to read this post by clicking on Flag-Language Menu below !

Use button above!



थैलेसीमिया एक रक्त विकार है जो रक्त कोशिकाओं के कमजोर होने और नष्ट होने के कारण होता है। यह वैरिएंट या लापता जीन के कारण होता है जो हीमोग्लोबिन प्रोटीन के निर्माण को गंभीर रूप से प्रभावित करता है। हीमोग्लोबिन एक आवश्यक घटक है, जो लाल रक्त कोशिकाओं को ऑक्सीजन ले जाने में मदद करता है।

थैलेसीमिया वाले बच्चे को थैलेसीमिया मेजर कहा जाता है यदि उन्हें नियमित अंतराल पर रक्त संचार की आवश्यकता होती है। यदि उन्हें अनियमित अंतराल पर रक्त आवश्यकता होती है, तो उन्हें थैलेसीमिया इंटरमीडिया कहा जाता है।

थैलेसीमिया से पीड़ित व्यक्तियों को जिन्हें रक्त संचार की आवश्यकता नहीं होती है और उनका हीमोग्लोबिन 10-12 की सीमा में रहता है, उन्हें थैलेसीमिया ट्रेट (माइनर) कहा जाता है। अगर सरल भाषा में कहा जाए तो उन्हें आधा थैलेसीमिया है। इन लोगों में बीमारी के लक्षण नहीं होते हैं, लेकिन अगर वे अन्य थैलेसीमिया वाले व्यक्ति से शादी करते हैं तो दोनों पति-पत्नी के आधे विकार बच्चे में पूर्ण थैलेसीमिया के रूप में प्रकट हो सकते हैं तो उन्हें थैलेसीमिया मेजर कहा जाता है। ये बच्चे सामान्य जीवन जीने में असमर्थ होते हैं।  यदि दोनों माता-पिता थैलेसीमिया ट्रेट हैं तो 25% संभावना है कि उनका बच्चा थैलेसीमिया मेजर हो जाएगा।

ऐसा होने से रोकने के लिए, सभी थैलेसीमिया ट्रेट (माइनर) व्यक्ति को केवल उस व्यक्ति के साथ शादी करनी चाहिए जिसमें रक्त परीक्षण द्वारा थैलेसीमिया ट्रेट (माइनर) को खारिज किया गया है। इस स्थिति में जब थैलेसीमिया ट्रेट (माइनर) के व्यक्ति सामान्य व्यक्ति से शादी करते हैं, तो बच्चे में थैलेसीमिया मेजर होने की कोई संभावना नहीं है। 25% संभावना है कि बच्चा थैलेसीमिया ट्रेट (माइनर) हो । लेकिन ये बच्चे अपने माता-पिता में से एक के जैसे सामान्य जीवन जी सकते हैं।

इसीलिए यह कहा जाता है की “थैलासीमिया ट्रेट (माइनर) के लोगों को कुंडली मैच करने से पहले अपने होने वाले पति या पत्नी का ब्लड जाँच कर लेना चाहिए” की कहीं सामने वाले को भी थैलासीमिया ट्रेट (माइनर) तो नहीं। ब्लड जाँच कर के निश्चित कर लेना इसलिए जरुरी है की थैलासीमिया ट्रेट (माइनर) के व्यक्ति को केवल देख के यह बताना मुश्किल होता है की उसको थैलासीमिया ट्रेट है की नहीं।